खून की एक बूंद देगी हार्ट अटैक का अलर्ट

अब खून की एक बूंद न सिर्फ हार्ट अटैक का अलर्ट देगी बल्कि आपका दिल कितना कमजोर है, यह भी बता देगी। इसके लिए बीएनपी नामक जांच करानी पड़ेगी। कानपुर के लक्ष्मीपत सिंघानिया इंस्टीट्यूट ऑफ कार्डियोलॉजी के डॉक्टरों ने इस जांच को शुरू किया है। अभी तक अटैक की आशंका का पता लगाने के लिए ईसीजी के अलावा खून में कार्डियक ट्रोपोनिन की जांच की जाती है। ट्रोपोनिन का स्तर कम होने पर दिल के दौरे की संभावना कम मानी जाती है लेकिन शोध बताते हैं कि यह तरीका सटीक नहीं है।

बी टाइप नेट्रीयूरेक्टिक पेप्टाइड यानी बीएनपी जांच की सुविधा अभी तक संस्थान में उपलब्ध नहीं थी। मरीज को हार्ट या धमनियों में ब्लॉकेज है? ब्लॉकेज काफी पुराना है या 24 घंटे पहले का है? पहले कभी हार्ट अटैक पड़ा तो नहीं था, इसकी जांच के लिए ट्रॉप-टी जांच की सुविधा थी। हार्ट फेल्योर की रफ्तार क्या है इसका पता नहीं चल पाता था। ऐसे में मरीजों को प्राइवेट पैथोलॉजी का रुख करना पड़ता था जहां बीएनपी से मिलती-जुलती जांच से इसका पता चल पाता था। इसके अलावा कार्डियोलॉजी में खून के थक्के जमने की नई तरह से जांच शुरू होगी। डी- टाइमर जांच से खून के जमाव का स्तर उपलब्ध हो जाएगा। साथ ही थायइराड की जांच भी संभव होगी। नए वायरल मार्कर से गंभीर वायरस की जांच शुरू कर दी गई है इनमें एचआईवी, एचसीवी और हिपेटाइटिस-बी की चतुर्थ जनरेशन की जांच है। अहम बात है कि ये सभी जांचें किट नहीं बल्कि हाईटेक मशीनों से की जाएंगी। इससे संक्रमण के स्तर का जल्द पता चलेगा।सावधान होने की जरूरत
– दिल की धमनियों और मांसपेशियों में कमजोरी से अटैक का खतरा बढ़ जाता है।
– सिगरेट, गुटखा और शराब का सेवन करने वाले सबसे ज्यादा रिस्क फैक्टर में
– बढ़ती उम्र के साथ दिल की धमनियों से खून को पंप करने की क्षमता घटती है।
– 50 वर्ष की आयु के बाद दिल की धमनियां कमजोर होने पर हो सकती है दिक्कत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload CAPTCHA.