*फेसबुक फ्रेंड से मिलने जाने के लिए व्यापारी ने बना डाली घिनौनी साजिश, जानिए कैसे फंसा गया अपने बुने जाल में*

रामपुर। जिले के एक व्यापारी ने अपनी Facebook फ्रेंड से मिलने जाने के लिए ऐसी साजिश बनाई कि पुलिस भी सुनकर हैरान हो गई। हालांकि व्यापारी अपने ही बुने जाल में खुद फंसकर रह गया। व्यापारी का नाए शुएब है। शुएब ने मध्य प्रदेश के जबलपुर की रहने वाली फेसबुक फ्रेंड से मिलने जाने के लिए लूट की झूठी कहानी की साजिश बना डाली। फेसबुक फ्रेंड से मिलने जबलपुर जा रहा था। दिल्ली पहुंचकर फेसबुक फ्रेंड को फोन करके मिलने आने के लिए कहा तो उसने इन्‍कार कर दिया। इधर वह अपने ही बुने जाल में फंस गया और मुरादाबाद पहुंचते हैं पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर जेल भिजवा दिया। पुलिस ने शुएब के पास से एक लाख 26 हजार, 650 रुपये भी बरामद किए हैं।पुलिस के मुताबिक रामपुर के कस्बा टांडा मुहल्ला नीम निवासी मोहम्मद शुएब की मुरादाबाद कोतवाली के कटरा नाज में चावल की दुकान है। सोमवार को सुबह उसके पास एक लाख 28 हजार रुपये थे। कुछ रकम उसके चाचा की भी थी। यह रकम उसने चावल की बोरियों में छुपा कर रख दी। दोपहर करीब ढाई बजे वह घर लौटते समय जामा मस्जिद पार्क से ऑटो रिक्शा में बैठ गया। रामगंगा पुल से आगे जाकर उतर गया। वहां से कीचड़ में लेट गया। थोड़ी देर बाद शर्ट वहीं फेंककर एक ढाबे पर पहुंचा। वहां बैठे एक अन्य व्यक्ति के फोन से बड़े भाई तौसीफ से बात कराई। उसने अपना फोन स्विच ऑफ करके झाड़ियों में फेंक दिया था। पुलिस को तीन लाख रुपये लूटे जाने की झूठी सूचना दे दी। शुएब के मुताबिक वह अगले दिन अपने भाई के साथ दुकान पर आया। सुबह सुबह करीब 10 बजे जैसे ही भाई दुकान से बाहर निकला तो चावल की बोरियों में रुपए निकाल लिए। भाई के दुकान पर लौटते ही वह सीधा रोडवेज बस से दिल्ली पहुंचा। निजामुद्दीन पहुंचकर मोबाइल और सिम खरीदा। इसके बाद फेसबुक फ्रेंड को फोन करके बताया कि तुमसे मिलने के लिए जबलपुर आ रहा हूं, शादी की बात करनी है। शोएब ने उसे घटना की हकीकत बता दी। जिस पर लड़की ने आने से मना कर दिया और शादी से भी मना कर दिया। जिसके लिए लूट का नाटक किया वहीं जब धोखा दे गई तो वापस लौट आया। जहां पुलिस उसका इंतजार कर रही थी। उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया
Attachments area

One Response to *फेसबुक फ्रेंड से मिलने जाने के लिए व्यापारी ने बना डाली घिनौनी साजिश, जानिए कैसे फंसा गया अपने बुने जाल में*

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload CAPTCHA.