बिना परामर्श के पेनकिलर दवाइयों का सेवन गंभीर हार्ट अटैक का कारण बन सकता

हिसार, 28 सितंबर, 2020  हृदय रोगों के शुरुआती इलाज के फायदों के महत्व के बारे जागरुकता बढ़ाने के उद्देश्य से फोर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट (एफएमआरआई), गुरुग्राम ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया। विश्व हृदय दिवस 2020 के अवसर पर, एफएमआरआई ने हरियाणा से 2 गंभीर हृदय रोगियों को प्रस्तुत किया जिनका बाईपास सर्जरी की मदद से सफलता पूर्वक इलाज किया गया था।
72 वर्षीय रिटायर्ड किसान राम नारायण को गंभीर दिल का दौरा पड़ा था। जिस वक्त उन्हें अस्पताल में भर्ती किया गया था तब उनका हृदय केवल 35 प्रतिशत ही काम कर रहा था, जो 55 प्रतिशत के सामान्य स्तर से बहुत कम था। गहन जांच से पता चला कि मरीज भले ही धूम्रपान करता था, लेकिन वह हर दिन 20 किलोमीटर साइकिल चलाने के साथ एक सक्रिय जीवनशैली जीता था। लेकिन खेतों में काम करने के कारण उसे जब भी दर्द होता था तो वह बिना डॉक्टर के परामर्श के पेनकिलर दवाइयों का सेवन कर लेता था। यही गलती उसकी वर्तमान स्थिति का कारण बन गई। दूसरी मरीज 44 वर्षीय महिला है, जो 5 महीनों तक अपने सीने के दर्द को नजरअंदाज करती रही। यह दर्द सीने से दाएं हाथ तक पहुंच जाता था और उसे सांस लेने में भी मुश्किल होती थी। लेकिन जब मरीज का दर्द असहनीय हो गया तो वह हिसार में एंजियोग्राफी के लिए पहुंची। रिपोर्ट से पता चला कि महिला की 3 मुख्य धमनियों में से 2 धमनियां 100 प्रतिशत ब्लॉक हो चुकी थीं। गंभीर हालत को देखते हुए मरीज को सर्जरी के लिए तुरंत एफएमआरआई में शिफ्ट कर दिया गया।
एफएमआरआई के कार्डियो थोरेसिस और वस्कुलर सर्जरी (सीटीवीएस) के निदेशक और प्रमुख, डॉ. उद्गीथ धीर ने बताया कि, “72 वर्षीय राम नारायण के फेफड़े धूम्रपान के कारण कमजोर पड़ गए थे और जुलाई में उन्हें गंभीर हार्ट अटैक आया। इस दौरान उनका हृदय केवल 35 प्रतिशत ही काम कर रहा था। वह अक्सर पेनकिलर दवाइयों का सेवन करता था। शायद यही वजह है कि खेतों में एक सक्रिय जीवनशैली के बावजूद उसकी वर्तमान स्थिति ऐसी है। जांच से पता चला कि मरीज लेफ्ट मेन कोरोनरी आर्टरी डिजीज (एलएमसीए) से ग्रस्त था। मरीज को तुरंत इंमरजेंसी में शिफ्ट किया गया जहां उसकी बाईपास सर्जरी की गई। सर्जरी की मदद से तीनों धमनियों के ब्लॉकेज को खोल दिया गया। उसके साथ ही हार्ट अटैक के कारण मरीज के बाएं आर्टि्रयल अपेंडेज में खून के थक्के का पता चला। चौम्बर को साफ किया गया जिससे थक्का शरीर के अन्य हिस्सों तक न पहुंच पाएं। तत्काल हस्तक्षेप और समय पर सर्जरी की मदद से ही मरीज की जान बचाना संभव हो सका।”
हृदय रोगों के लक्षणों की पहचान, सही निदान और समय पर इलाज की मदद से हृदय रोगों को गंभीर होने से रोका जा सकता है। कोरोनरी आर्टरी डिजीज को नियंत्रण में करना है तो पहले उसके जोखिम कारकों को नियंत्रण में करना होगा। आप जितनी जल्दी डॉक्टर से परामर्श लेते हैं, आपके इलाज के परिणाम भी उतने ही बेहतर होते हैं। यह प्रक्रिया हृदय की कार्य क्षमता में सुधार कर के हृदय रोगों के कारण मृत्यु के खतरे को कम करती है। जहां समय पर सर्जरी जिंदगी बचा सकती है, वहीं लक्षणों को अनदेखी करना जिंदगी पर भारी पड़ सकता है। डॉ. धीर ने अधिक जानकारी देते हुए कहा कि, “डायबिटीज से ग्रस्त 44 वर्षीय अनिता रानी का मामला भी कुछ ऐसा ही था। उन्हें सीने में दर्द था लेकिन गलत निदान के कारण वे उसे लगभग 5 महीनों तक अनदेखी करती रहीं। कई मामलों में गलत निदान मरीज को मौत के मुंह में डाल सकता है। हालांकि, उन्हें 5 महीनों के बाद अस्पताल में भर्ती किया गया था, लेकिन बाइपास सर्जरी ने न सिर्फ उनकी जान बचाई बल्कि अब वे पूरी तरह से स्वस्थ हैं और एक सामान्य जीवन व्यतीत कर रही हैं।”
Attachments area

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload CAPTCHA.