हाफिज और दाऊद पर इमरान खान का किनारा, बोले- ये मुद्दे विरासत में मिले

आतंकवाद के मुद्दे पर अलग-थलग पड़ चुके पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद और माफिया डॉन दाऊद इब्राहिम के मामले से किनारा करने की कोशिश की है। उन्होंने गुरुवार को कहा, हमारी सरकार को ये मामले विरासत में मिले हैं। लेकिन अतीत के लिए हमारी सरकार को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है।

पाक प्रधानमंत्री ने भारतीय पत्रकारों से बातचीत में कहा, हम इतिहास में जी नहीं सकते। उन्होंने कहा, हाफिज सईद पर संयुक्त राष्ट्र ने प्रतिबंध लगाए हैं। पहले ही पाक सरकार सईद और उसके संगठन जमात-उद-दावा पर कार्रवाई कर रही है।

इमरान ने दो टूक कहा कि यह पाकिस्तान के हित में भी नहीं है कि उसकी जमीन का इस्तेमाल दूसरे देशों में आतंकवाद फैलाने के लिए हो। उन्होंने कहा, हमें इतिहास से सीखना चाहिए, न कि उसमें रहना चाहिए। पाक प्रधानमंत्री ने कहा, भारत और पाकिस्तान के लोग शांति चाहते हैं। दोनों देशों के लोगों की मानसिकता में बदलाव आया है। लेकिन साथ ही कहा कि शांति की पहल एकतरफा नहीं हो सकती है। इमरान के मुताबिक भारत के साथ मजबूत और शिष्ट संबध स्थापित करने के लिए वह लोकसभा चुनाव का इंतजार करेंगे। उनका मानना है कि चुनाव के बाद नई दिल्ली के रुख में बदलाव आएगा।

गौरतलब है कि 1993 मुंबई शृंखलाबद्ध एक दर्जन धमाकों का मास्टर माइंड दाऊद इब्राहिम वर्षों से पाकिस्तान के कराची शहर में रह रहा है। इस हमले में 257 लोगों की मौत हुई थी, जबकि 700 लोग घायल हुए थे। वहीं 26 नवंबर 2008 को मुंबई पर हुए हमले में 166 लोगों की मौत हुई थी। इस हमले के प्रमुख साजिशकर्ता हाफिज सईद है।

प्रधानमंत्री मोदी से मिलना चाहता 

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने गुरुवार को एक बार फिर कहा कि वह सभी लंबित मुद्दों पर चर्चा के लिए भारतीय समकक्ष नरेंद्र मोदी से मिलने को तैयार हैं। अपनी सरकार के 100 दिन पूरे होने के मौके पर बोलते हुए इमरान ने कहा कि उन्हें भारतीय प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात कर और बात करके खुशी होगी।

कश्मीर मुद्दा बातचीत से ही संभव 

इमरान खान ने स्वीकार किया है कि कश्मीर सहित सभी लंबित मुद्दों का हल बातचीत के जरिये ही संभव है। उनसे जब पूछा गया कि कश्मीर मुद्दे का समाधान संभव है? तो इमरान ने कहा कि कुछ भी असंभव नहीं है। इसके साथ ही जोर देकर कहा कि इस मुद्दे का सैन्य समाधान नहीं हो सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload CAPTCHA.