कहाँ हे यादव सिंह

yadav singh imaeइनकम टैक्स के बाद सीबीआई के शिकंजे में फंस रहे यादव सिंह को लेकर चर्चा जोरों पर है। सत्ता के गलियारों से लेकर सचिवालय के अफसरों के बीच यही सवाल है कि आखिर यादव सिंह कहां है

लोग उसके करीबियों से जानने की कोशिश कर रहे हैं कि उन्होंने उसे आखिरी बार कब और कहां देखा क्या किसी की उससे फोन पर बात हुई  वह देश में है या कहीं बाहर भाग गया। सत्ता से जुड़े कई बड़े नामों के फंसने की आशंका को देखते हुए उसकी जान पर मंडरा रहे खतरे को लेकर भी चर्चाओं का बाजार गर्म है।
दरअसल यादव सिंह के खिलाफ सीबीआई जांच शुरू होने से करीब तीन माह पहले यह बात सामने आई थी कि यादव सिंह दिल्ली से लखनऊ आया था। यहां आकर उसने सत्तारूढ़ पार्टी के एक बड़े नेता से मुलाकात भी की और फिर लौट गया। उसके बाद से करीबियों ने उसे देखा नहीं। सीबीआई के छापों के दौरान भी यादव सिंह की पत्नीए बेटीए बेटे सभी को देखा गया लेकिन यादव सिंह को किसी ने नहीं देखा। जिसके बाद से यादव सिंह को लेकर चर्चा शुरू होने लगी।

कहीं विदेश में तो नहींः

कुछ लोगों का दावा है कि पिछली बार की तरह इस बार भी यादव सिंह गिरफ्तारी व अन्य कार्रवाई से बचने के लिए विदेश भाग गया है। वहीं कुछ लोगों का कहना है कि यादव सिंह के लिए भागना असान नहीं। दरअसल यादव सिंह व उसके करीबियों के यहां आयकरए ईडी और डीआरआई की टीमों ने छापेमारी की थी। जिसके बाद काले धन के लिए बनी एसआईटी ने उस पर शिकंजा कसना शुरू किया था। तभी से यादव सिंह देश की सभी बड़ी एजेंसियों के निशाने पर आ गया था। ऐसी स्थिति में उसके देश छोड़कर भागने की बात थोड़ी मुश्किल है।
हालांकि यादव सिंह से जुड़े बड़े नामों के खुलासे को लेकर उसकी जान पर खतरा जरूर मंडरा रहा है। क्योंकि जिस तरह से यूपी में एनआरएचएम घोटाले को दबाने के लिए दो सीएमओ की हत्याएं हुईं और एक ने संदिग्ध हालात में दम तोड़ा उससे यादव सिंह की जान को लेकर बड़े खतरे से इंकार नहीं किया जा सकता। क्योंकि यादव सिंह भी हजारों करोड़ के घोटाले के खुलासे की अहम चाबी है। यादव सिंह ही है जो जांच एजेंसियों को बता सकता है कि हजारों करोड़ के घोटाले की रकम किस.किस तक किस रूप में पहुंचाई गई।
ईडी जुटा रही करीबियों का ब्योराः

सीबीआई की कार्रवाई के बाद ईडी ने भी यादव सिंह व उसके करीबियों पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। ईडी जल्द ही उन लोगों के खिलाफ मनी लांड्रिंग एक्ट के तहत मामला दर्ज कर संपत्ति जब्त करने की कार्रवाई शुरू कर सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload CAPTCHA.